हवा महल का इतिहास और तथ्य- Jaipur Hawa Mahal History in Hindi

In this article, we are providing information about Hawa Mahal in Hindi- Hawa Mahal History in Hindi Language. हिस्ट्री ऑफ हवा महल | हवा महल का इतिहास और तथ्य

हवा महल का इतिहास और तथ्य- Jaipur Hawa Mahal History in Hindi

हवा महल भारत के राज्यस्थान राज्य की राजधानी जयपुर में बना हुआ एक राजसी महल है। इसे हवा महल इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें हवा के प्रवेश करने और महारानियों को बाहर का दृश्य देखने के लिए जालीदार झरोखे बने हुए हैं। यह पांच मंजिला इमारत हैं और बेहद खुबसूरत है।

Hawa Mahal History in Hindi

Hawa Mahal Jaipur ka Itihas महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1798 में इस महल को बनवाया था। लगभग 50 साल के बाद 2005 में इस महल की मरम्मत बड़े स्तर पर की गई थी जिसमें लगभग 45679 लाख की लागत आई थी। राज्यस्थान का पुरात्तविक विभाग हवा महल की देख रेख करता है।

हवा महल की वस्तु कला- Architecture Information about Hawa Mahal in Hindi

हवा महल में हिंदु राजपुत कला शैली और मुगल शैली का मिश्रण देखने को मिलता है। इसे चुना, लाल और गुलाबी पत्थरों से बनाया गया है। लाल चंद उस्ता ने इसका डिजाईन तैयार किया था। यह एक पंच मंजिला इमारत है जो कि अपने आधार से 15 मीटर ऊँची है।

नीचली दो मंजिलों के सामने एक आँगन भी है जबकि उपर की तीन मंजिलों की चौड़ाई का आयात एक कक्ष के जितना हैं। इस महल में 953 जालीदार झरोखे हैं जिनमें से महल में हवा जाती हैं। कुछ झरोखे लकड़ी के भी बने हुए हैं। महल सामने वाली सड़क से ही दिखाई देता है और इसपर खुबसुरत नक्काशी की गई है। इसमें जालियाँ कंगुरे और गुबंद बने हुए हैं। महल की इमारत को पिछली तरफ कक्ष बने हुए हैं। महल का पिछला हिस्सा बहुत ही साधारण सा है।

सीटी पैलेस की तरफ से आते हुए शाही दरवाजे से हम हवा महल में प्रवेश कर सकते हैं जो कि एक विशाल आंगन में खुलता है। इस आंगन के पूर्व में हवा महल स्थित है। हवा महल की भीतरी साज सज्जा बहुत ही खुबसुरत है। इसके प्रत्येक ककिष के सामने के दालान में फव्वारे लगे हुए हैं। इसकी उपरी दो मंजिल पर जाने के लिए सीढ़ियों की बजाय खुर्रे हैं। यह महल भगवान श्री कृष्ण के मुकुट के आकार का बना हुआ है।

Hawa Mahal Information and Facts in Hindi | हवा महल से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

1. हवा महल को पैलेस ऑफ विंडस को नाम से भी जाना जाता है।

2. हवा महल में सामने की तरफ कोई भी प्रवेशद्वार नहीं है। इसके अंदर सिर्फ पीछे के रास्तो से जाया जा सकता है।

3. यह बिना आधार को बना विश्व का सबसे बड़ा महल है।

4. हवा महल की दीवारों के कोने मुड़े हुए हैं।

5. बहुत सी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फिल्मों के लिए यह सूटिंग स्पॉट बना हुआ है।

# Hawa Mahal History in Hindi # History of Hawa Mahal in Hindi

चित्तौड़गढ़ किले का इतिहास- Chittorgarh Fort History in Hindi

आमेर किले का इतिहास- History of Amer Fort in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Hawa Mahal History in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *