श्रम का महत्त्व पर निबंध- Shram Ka Mahatva Essay in Hindi

In this article, we are providing Shram Ka Mahatva Essay in Hindi श्रम का महत्त्व पर निबंध निबंध हिंदी | Nibandh in 200, 300, 500, 600, 800 words For Students.

श्रम का महत्त्व पर निबंध- Shram Ka Mahatva Essay in Hindi

Essay on  Importance of Labour in Hindi

प्रस्तावना 

किसी भी व्यक्ति को महान उसके द्वारा किया गया श्रम बनाता है। दुनिया में सभी को भगवान ने बराबर ही समय दिया है, अब उस समय में कौन कितना श्रम करता है ये उस व्यक्ति पर निर्भर करता है जो अपने भविष्य को अच्छा या खराब में परिवर्तित करना चाहता है।

श्रम की खूबी

किसी ने क्या खूब कहा है कि – ‘किस्मत वालो को बस उतना ही मिलता है जितना श्रम करने वाले छोंड़ जाते हैं’। इसलिए जीवन मे श्रम करने के लिए सदैव तैयार रहना चाहिए, चाहें वह किसी भी प्रकार का क्यों न हों। श्रम कभी भी ऊंचे या नीचे स्तर का नही होता श्रम बस श्रम होता है।

श्रम ईश्वरी तोहफा है

श्रम प्रकृति द्वारा हमे दिया गया एक हथियार है जो हमें जीवन रूपी जंग से लड़ने में मदद करता है। आज हम जिन लोगों को अखबारों या किताबों में पढ़ते हैं, वो लोग हममें से ही एक थे लेकिन वो कभी किस्मतो के सहारे नही बैठे, उन्होंने श्रम किया और उनके श्रम ने आज उन्हें अखबारों, किताबों तक पहुँचा दिया।

श्रम में बहुत ताकत होती है, एक आम आदमी  दशरत मांझी ने अकेले श्रम करके पहाड़ को खोदकर रास्ता बना दिया था। व्यक्ति को समय के साथ किया हुआ श्रम फल देता है लेकिन उसका कम समय में किया हुआ ज्यादा श्रम उसको समय से पहले ही अच्छा फल दे देता है। किसी भी क्षेत्र में श्रेष्ठ व्यक्ति किस्मत के बल पर नहीं बल्कि उसकी अपनी मेहनत के बल पर श्रेष्ठ बनता है।

श्रम है सफलता का मूल मंत्र 

श्रम वो कुंजी है जो दुनिया की बड़ी-बड़ी उपलब्धियों का ताला बड़ी आसानी से खोल देता है, किसी को भी श्रम करने में कभी भी कमी नही करनी चाहिए, क्योंकि व्यक्ति का जन्म श्रम करने के लिए ही हुआ है। आप जिस भी क्षेत्र में कार्यरत हैं उसमें मन लगाकर श्रम कीजिए आप एक दिन जरूर सफल होंगे। लेकिन जब तक आप श्रम नहीं करेंगे तब तक आप किसी भी क्षेत्र में सफल नहीं हो सकते। सफलता सिर्फ सही दिशा में किया हुआ श्रम मांगती है।

श्रम दिलाता है सम्मान

आपका श्रम अपको नाम, शोहरत, ताकत, पैसा सब देगा, लेकिन पहले आप श्रम तो कीजिए पूरी ईमानदारी के साथ। श्रम के बिना जिंदगी नीरस हो जाती है लेकिन इसके विपरीत श्रम करने के बाद जीवन में सुकून भी बहुत मिलता है। श्रम हमारा सबसे अच्छा दोस्त है जो अच्छे वक्त में हमारी पहचान बढ़ाता है और बुरे वक्त में हमारा अकेला सहारा बनता है। श्रम करने के बाद कि नींद का भी अपना एक अलग महत्व है। साथ ही श्रम हमें हमारे आत्मसम्मान के साथ जीने में मदद करता है।

श्रम आपकी ताकत है

किसी ने लिखा था श्रमेव जयते अर्थात श्रम की हमेशा विजय होती है, आप चाहे जिस भी परिस्थिति में हों लेकिन आपका श्रम आपका साथ हमेशा देता है। हर कोई अपने अलग अलग कार्य मे अपना श्रम देता है, जैसे किसान खेती करने में अपना श्रम देता है जिससे उसकी फसल अच्छी होती है, जैसे एक लोहार हथौड़ा चलाकर श्रम करता है और लोहे का आकार बदल देता है। श्रम कभी भी व्यक्ति को कमजोर नहीं रहने देता, श्रम मानव का वो गहना है जो उसके आकर्षण में चार चांद लगा देता है।

उपसंहार

श्रम के बिना किसी भी व्यक्ति के जीवन का कोई अस्तित्व नहीं होता। बिना श्रम किए व्यक्ति हमेशा स्थिर रहता है, वह न तो अपने वर्तमान में तरक्की कर पाता है और न ही भविष्य को सुधार पाता है। प्रत्येक मनुष्य को श्रम करना चाहिए, श्रम करने में कोई भी शर्म की बात नही है बल्कि ये तो मानव का गुण है, जो उसे और मूल्यवान बनाता है, बिल्कुल वैसे जैसे कोई पत्थर घिसकर हीरा बना दिया जाता है।

———————————–

दोस्तों इस लेख के ऊपर Shram Ka Mahatva (श्रम का महत्त्व) आपके क्या विचार है और क्या आपके घर में से कोई भारतीय सेना में है? हमें नीचे comment करके जरूर बताइए।

Shram Ka Mahatva‘ ये हिंदी निबंध class 4,5,7,6,8,9,10,11 and 12 के बच्चे अपनी पढ़ाई के लिए इस्तेमाल कर सकते है। यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Short Essay on Importance of Labour in Hindi

Shram Ka Mahatva Par Nibandh

Work is Worship Essay in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *