मेरा घर पर निबंध – Mera Ghar | My House Essay in Hindi

In this article, we are providing information about My House in Hindi, Mera Ghar Par Nibandh | My Home | My House Essay in Hindi Language मेरा घर पर निबंध हिंदी | Nibandh in 100, 200, 300, 500 words For Students & Children.

दोस्तों आज हमने Essay on Mera Ghar in Hindi लिखा है। मेरा घर पर निबंध हिंदी में कक्षा Class 1, 2, 3, 4,5, 6, 7, 8, 9 ,10 और 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए है।

मेरा घर पर निबंध – My House Essay in Hindi

 

Mera Ghar par Nibandh | Lekh Hindi Mein ( 100 words )

मेरा घर दिल्ली शहर में है। यह 1000 वर्ग पुट भूमि पर बना हुआ है। देखने में बहुत ही सुन्दर है। इसमें चार कमरे, एक स्नानघर एवं एक रसोईघर है। कर के आगे बरामदा भी बना हुआ है। प्रत्येक कमरे में बिजली लगी हुई है।

घर में मेरा कमरा अलग है। मैं उसी में पढ़ता हूँ और वहीं सोता हूँ। मेरे मकान में एक बड़ा आँगन भी है। आँगन में एक ओर नल और उसी ओर छोटा-सा बगीचा भी है। बगीचे में फूल-पौधे भी लगे हुए हैं। हमारे घर का द्वार पूर्व की ओर है।

मेरा घर बहुत ही हवादार है। जाड़े में धूप तथा गर्मी में हवा खूब आती है। मेरे पिताजी ने इसको बनवाया है। हमारा घर साफ-सुथरा रहता है।

जरूर पढ़े-

10 Lines on My House in Hindi

Essay on My Village in Hindi

 

Essay on Mera Ghar in Hindi ( 200 words )

मेरा घर बहुत सुन्दर है । इसमें तीन कमरे हैं । एक बैठक, दो सोने के कमरे हैं । एक रसोईघर है । बैठक में बैठने के लिए सोफा लगा है । यहाँ एक छोटी-सी अलमारी में तरह तरह की सजावटी वस्तुएँ रखी हैं । वहीं एक टी.वी. भी है । हम सब यहाँ बैठकर टी.वी. देखते हैं । पिताजी समाचार पत्र पढ़ते हैं । रसोईघर के साथ बालकनी लगी है । बालकनी में माँ और दादी ने बहुत सारे पौधे लगाए हैं। यहाँ बहुत हरा-भरा लगता है । यहाँ मेज-कुर्सी लगी है । हम सब यहीं साथ बैठ कर खाना खाते हैं।

मेरे घर में हम छः लोग हैं । माँ, पिता जी, दादा जी, दादी, मैं और मेरी छोटी बहन सोनल । मैं दादा-दादी जी के साथ सोता हूँ । इस कमरे में एक छोटा सा मंदिर है । दादाजी और दादी हर रोज वहाँ पूजा करते हैं । यहाँ एक छोटी मेज कुर्सी भी है । वहाँ मैं अपनी पुस्तकें रखता हूँ और पढ़ाई करता

हमारा घर बहुत बड़ा नहीं है । पर हम सब मिल कर प्यार से रहते हैं । मेरी माँ ने घर को सुन्दर से सजाया है । मुझे मेरा घर बहुत प्यारा लगता है ।

 

Mera Ghar in Hindi Essay | Ghar Per Nibandh ( 300 words )

मेरा घर अशोक विहार, रिंग रोड पर है। मेरे घर का नाम शांति भवन है। इसमें पाँच कमरे हैं। यह दो मंजिल वाला भवन है। नीचे एक बैठक, पाकशाला, शौचालय तथा दो कमरे हैं। ऊपर दो कमरे हैं। हर कमरे के साथ शौचालय और स्नानगृह भी है। अतिथिशाला में अतिथि आकर ठहरते हैं। मेरा कमरा ऊपर हैं जहाँ मैं अपने भाई के साथ रहता हूँ। यहाँ मेरे लिए और मेरे भाई के लिए कुर्सियाँ और मेजें लगी हैं जहाँ हम दोनों बैठ कर पढ़ते हैं।

बैठक में सोफा-कुर्सियाँ आदि लगी हैं। जहाँ मेरे पिता जी और उनके मित्र सदा बातें करते रहते हैं। बैठक में दो पंखे लगे हैं। यहाँ रेडियो और टेलीविजन भी रखे हैं। यहाँ एक टेलीफोन भी है।

बैठक के बाहर एक छोटा घास का मैदान है जहाँ किनारे पर फलों के वृक्ष हैं। पेड़ों की ठंडी छाया में तथा सुन्दर पुष्पों की क्यारियों के मध्य हम अपनी कुर्सियाँ डालकर बैठते हैं। हरी-हरी घास पर नंगे पाँव चलने में बड़ा आनन्द आता है।

हर कमरे में हवा और रोशनी का प्रबन्ध है। एक कमरे में हमने मन्दिर बनाया है जहाँ हम सब बैठ कर भगवान की आराधना करते हैं। यहाँ रामायण, गीता और दूसरी धार्मिक पुस्तकें रखी हुई हैं।

मेरे घर में मेरे माता-पिता, मैं और मेरा भाई रहते हैं। हमारा एक नौकर है। जिसको हमने बड़े गेट के समीप एक कमरा दिया है। वह और मेरा कुत्ता रूनी मेरे घर की रखवाली करते हैं।

मेरे पड़ोस में अच्छे लोग रहते हैं। उनके भवन भी हमारे भवन की तरह सुन्दर और आकर्षक हैं। हमारे पड़ोसी हमारे घर आते रहते हैं। हमारे घर में सदा शान्ति और आनन्द का साम्राज्य रहता है। हम सब मिलकर काम करते हैं। कोई किसी का अपमान नहीं करता। सब एक दूसरे का आदर करते हैं। मुझे मेरा घर बहुत प्रिय है।

———————————–

इस लेख के माध्यम से हमने Mera Ghar Par Nibandh | My House Essay in Hindi का वर्णन किया है और आप यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।

My House in Hindi
mera ghar hindi essay
mera ghar in hindi essay
essay on mera ghar in hindi
Short Essay on My Home in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.