हिमालय पर निबंध- Essay on Himalaya in Hindi

In this article, we are providing information about Himalaya in Hindi- Essay on Himalaya in Hindi Language. हिमालय पर्वत पर निबंध | Himalaya Essay in Hindi, Himalaya Parvat Par Nibandh.

हिमालय पर निबंध- Essay on Himalaya in Hindi

हिमालय पर्वत संसार के सबसे ऊणचे पर्वतों में से एक है जिसे गिरीराज के नाम से भी जाना जाता है। हिमालय दो शब्दों से मिलकर बना है हिम और आलय जिसका अर्थ है बर्फ का घर। हिमालय भारत, पाकिस्तान, नेपाल, भूटान और चीन से लगता है और संसार की सबसे ऊँची चोटी माउंट एवरेस्ट हिमालय की ही चोटी हैं जो कि प्राचीन काल से हमलावरों से हमारी रक्षा करती आई है। हिमालय पर पूरा साल बर्फ पड़ती रहती है। हिमालय लंबाई में 2500 किलोमीटर और चौड़ाई में 612,021 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। हिमालय की गोद में कुदरत अपने रंग बिखेरती है। हिमालय 70 करोड़ वर्षौं से भी प्राचीन है। हिमालय पर्वत भारत को मध्य एशिया और तिब्बत से अलग करता है। यह भारत की उतर सीमा से सटी हुई एक मजबूत दीवार है।

प्राचीन काल में भी हिमालय का बहुत महत्व रहा है। कहा जाता है कि यहीं पर भगवान शिवजी का घर है। गंगा, यमुना, गंगोत्री जैसी बहुत सी पवित्र नदियाँ हिमालय से ही निकलती हैं। हिमालय एक पवित्र स्थान भी है क्योंकि यहाँ पर बद्रीनाथ, केदारनाथ, अमरनाथ और रिशीकेश जैसे बहुत से तीर्थ स्थल हैं। हिमालय कि कश्मीर की घाटी दुनिया की सबसे बड़ी और खुबसुरत घाटी है जो कि फल फूल और उद्यानों से भरी रहती है।

वैग्यानिकों के अनुसार हिमालय जीवंत है। उनका मानना है कि हिमालय हर वर्ष 20 मीलीमीटर बढ़ता है। मनुष्य के द्वारा पर्यायवरण को हानि पहुँचाने और खनन के कारण हिमालय में भूकंप और भूसंख्लन का खतरा बढ़ गया है। अत: हमें हिमालय की रक्षा के लिए उचित कदम उठाने चाहिए। हिमालय की चढाई बहुत ही रोचक और खतरों से भरी हुई हैं। हिमालय भारत का गौरव है और रक्षक भी है। हिमालय पर्वत श्रंखला को युवा पर्वत श्रंखला में गिना जाता है।

# Paragraph on Himalaya in Hindi

कश्मीर पर निबंध- Essay on Kashmir in Hindi

Mere Sapno Ka Bharat Essay

Essay on Parvatiya Yatra in Hindi- पर्वतीय यात्रा पर निबंध

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Himalaya in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

1 thought on “हिमालय पर निबंध- Essay on Himalaya in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *