Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi – स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

In this article, we are providing information about Swachh Bharat Abhiyan in Hindi. Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi. स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध- स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत, Swachh Bharat Swasth Bharat Nibandh ( Swachh Bharat Mission ), Safai Abhiyan, Clean India Essay, Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi 200, 300, 400 & 500 words.

Swachh Bharat Abhiyan

स्वच्छ भारत अभियान क्या हे?, स्वच्छ भारत अभियान किसने शुरू की थी और कब की थी?, स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े मुख्य नाम, स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi – स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi (200 words)

स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत 2 अक्टूबर 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को द्वारा की गई थी जिसका मुख्य उद्देश्य पूरे भारत को स्वच्छ और सुंदर बनाना है। इसके अंतर्गत गली मोहल्ले नदी नालों आदि की सफाई करना आता है। स्वच्छता हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह हमें स्वस्थ रखता है। स्वच्छता अभियान से लोगों को सफाई के बारे में जागरूक किया गया है और जगह जगह पर कूड़ेदान रखे गए है ताकि लोग खूले में कचरा न फेंके। लोगों के लिए शौचालय भी बनाए गए है ताकि लोग खुले में शौच न करे और गंदगी न फैले। हम सभी को भी सफाई के महत्व को समझना चाहिए और देश को साफ करने में सहायता करनी चाहिए। स्वच्छता अभियान के तहत बहुत से सफाई कर्मचारी नियुक्त किए गए है जिससे लोगों को रोजगार भी मिला है। घरोमह और दुकानों का कूड़ा लेने के लिए गाड़ी आती है। हम सबको अपने आस पास सफाई रखनी चाहिए और भारत को सुंदर बनाना है। स्वच्छ और सुंदर भारत का सपना गाँधी जी ने देखा है जिसे हम सबको मिलकर साकार करना है। हम सबको मिलकर ही पूरे देश को स्वच्छ रखना चाहिए।

Swachh Bharat Mission Essay- स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध (300 words)

सत्ता में आने के बाद से ही मोदी सरकार ने देश कल्याण के लिए बहुत से कार्य किए हैं। महात्मा गाँधी जी ने स्वच्छ और सुंदर भारत का सपना देखा था जिसकी जिम्मेदारी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने ली जिसके चलते उन्होंने 2 अकटूबर, 2014 को उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की थी। इसका मुख्य उद्देशय हर गली हर मोहल्ले की सफाई और शौचालय का निर्माण है क्योंकि अगर देश साफ होगा तो सुंदर दिखेगा। हमारे आस पास का वातावरण उपर बहुत प्रभाव डालता है और यदि हमारे आस पास गंदगी होगी तो हम शारिरीक और मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं रहेंगे। हम सब चाहते है कि हमारे आस पास सफाई हो पर खुद से उसे साफ रखने की कोई भी कोशिश नहीं करता है।

स्वच्छता अभियान के तहत लोगों को साफ सफाई के प्रति जागरूक किया गया है और उन्हें गंदगी से होने वाली बिमारियों के बारे में बताया गया है। कोई एक व्यक्ति पूरे देश को साफ नहीं कर सकता है इसलिए हम सबको मिलकर ही अपने आस पास की सफाई करनी होगी। हमें चाहिए कि हम लोग खुले में कुड़ा करकट न फेंके। सरकार ने भी जगह जगह पर कुड़ेदान लगवाए कै ताकि लोग सड़क पर कूड़ा न फेंके और घरों और दुकानों का कुड़ा लेने भी गाड़ी आती हैं। स्वच्छता अभियान के कारण बहुत से सफाई कर्मचारियों को नियुक्त किया गया जिससे उन्हें रोजगार मिला। सरकार ने शौचालय भी बनवाए ताकि लोग खुले में शौच न करे और स्वच्छता में योगदान दे।

हमें अपने आस पास सफाई रखनी चाहिए और बच्चों को भी साफ सफाई का महत्व समझाना चाहिए। हम स्वच्छता के जरिए ही खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। स्वच्छता अभियान का सपना पाँच सालों में पूरे भारत को स्वच्छ और सुंदर बनाना है और लोगो दो अच्छा स्वास्थय देना है।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi (400 words)

स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा 2 अक्टूबर 2014 को शुरू किया गया, यह हर नागरिक का सपना था की हमारा देश स्वतंत्र और स्वच्छ हो हमारा देश स्वतंत्र तो हो गया लेकिन पूर्ण रूप से स्वच्छ नहीं हो पाया| आज भी हमारे देश के हजारो गाँव में सौचालय नहीं है इसीलिए खासकर ग्रामीण छेत्र के लोगो को बहुत समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य लोगो को शोच के विषय में आने वाली समस्याओ को समाप्त करना है सरकार ने 2 अक्टूबर 2019 तक, महात्मा गाँधी के जन्म की 150 वि सालगिरह 2 अक्टूबर 2019 तक सम्पूर्ण भारत के हर एक गाँव में सौचालय बनवाने का लक्ष्य रखा है 1.04 करोड़ परिवारों को लक्षित करते हुए 2.5 लाख समुदायिक शौचालय बनवाये जायेंगे| कार्यक्रम पर खर्च किये जाने वाले ₹62,009 करोड़ रुपये में केंद्र सरकार की तरफ से ₹14,623 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जाएगें। केंद्र सरकार द्वारा प्राप्त होने वाले ₹14,623 करोड़ रुपयों में से ₹7,366 करोड़ रुपये ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर ₹4,165 करोड़ रुपये व्यक्तिगत घरेलू शौचालय पर ₹1,828 करोड़ रुपये खर्च किये जायेंगे
आज इस अभियान में आम लोगो ने भी अपना योगदान देना शुरू कर दिया है, लोग सहरो की सडको की सफाई, नालियों की सफाई जैसे कार्य करके योगदान दे रहे है

इसी के चलते सरकार ने पिछले वर्ष एक सूचि जारी की थी जिसमे देश के सबसे स्वच्छ शहरो के नाम है –
इंदौर (मध्य प्रदेश)
चंडीगढ़
तिरुचिरापल्ली (तमिलनाडु)
नई दिल्ली
विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश)
सूरत (गुजरात)
राजकोट (गुजरात)
गंगटोक (सिक्किम)
पिंपरी चिंचवड (महाराष्ट्र)
ग्रेटर मुंबई (महाराष्ट्र)
कल्याण डोंबिवली (महाराष्ट्र)
वाराणसी (उत्तर प्रदेश)
रायपुर (छत्तीसगढ़)
मेरठ (उत्तर प्रदेश)
पटना (बिहार)
इटानगर (अरुणाचल प्रदेश)
आसनसोल (पश्चिम बंगाल)
धनबाद (झारखंड)

आज भारत पुरी तरह स्वच्छ नहीं है, लोग संघर्ष तो कर रहे लेकिन फिर भी स्वच्छता नज़र नहीं आ रही क्योंकि अभी भी बहुत से लोग इधर उधर कूड़ा-कचरा डालते रहते है जिसकी वजह से स्वच्छता होती तो है पर नज़र नहीं आती अगर हमें अपने देश को पूर्ण रूप से स्वच्छ बनाना है तो हर नागरिक को आगे आना होगा

स्वच्छता अभियान का आरंभ पहले भी हुआ था लेकिन जबसे नरेन्द्र मोदी हमारे प्रधान मंत्री बने है तब से तो अभियान में क्रांति सी आ गयी है यह सिर्फ हमारे प्रधान मंत्री जी का परामर्श ही है की हम आज दुनिया में एक अलग नाम से जाने जाते है अंत में बस मेरे विचार ये ही है की हमें अपने देश के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी समझनी चाहिए और देश के लिए चलने वाले अभियानों में अपना योगदान देना चाहिए

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi (500 words)

भूमिका- स्वच्छ भारत अभियान सरकार द्वारा चलाई गई एक मूहीम है जो कि गाँधी जी के सुंदर भारत के सपने को साकार करने के लिए २ अकतुबर , २०१५ को शुरू किया गई थी ताकि पाँच सालों में हमें स्वच्छ और सुंदर भारत मिल सके। संपूर्ण भारत तभी साफ बन सकता है जब हर गली,हर मोहल्ला, हर सड़क , हर गाँव और हर एक शहर साफ होगा। अपने आस पास सफाई रखना हम सब का कर्तव्य है।

सफाई अभियान की आवश्यकता- स्वच्छता अभियान का मुख्य उद्देश्य लोगों को वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए प्रेरित करना है। लोग धीरे धीरे साफ सफाई की अहमियत भुलते जा रहे है। जहाँ देखो वही पर कूड़ा पर फेंक देते है जो कि हमारे स्वास्थय को बहुत हानि पहुँचाता है और आस पास की सुंदरता को भी कम करता है। खुले में कूड़ा फेंकने से भूमि की उपजाऊ शक्ति भी कम होती है। लोगों को गंदगी से होने वाली बिमारी से अवगत कराने और स्वच्छता का महत्व समझाने के लिए ही स्वच्छ भारत अभियान की जरूरत महसूस हुई।

स्वच्छता के लिए उठाए गए कदम- पूरे देश को साफ करना किसी एक व्यक्ति की जिम्मेदारी नहीं है और न ही कोई अकेला इंसान या फिर सिर्फ सरकार ये काम कर सकती है। हम सबको मिलकर ही यह काम करना होगा। सरकार ने भी इसके लिए बहुत से कार्य किए है-

1. खुले में शोच पर भी सरकार ने बैन लगाया है और बहुत से शोचालयों का निर्माण करवाया ताकि खुले में शोच पर मक्खियाँ न बैठे और बिमारी न फैले।
2. गलियों की और सड़को की सफाई सही ढंग से करने के लिए सफाई कर्मचारी नियुक्त किए गए है जो नियमित रुप से सफाई करने आते है।
3. जगह जगह पर कूड़ेदान रखे गए है और घरों को और दुकानों का कूड़ा लाने के लिए गाड़ी भेजी जाती है। अलग तरह के कूड़े के लिए अलग रंग के कूड़ेदान रखे गए है।
4. बहुत सी टीमों द्वारा जगह जगह जाकर कैंप भी लगाए गए ।

स्वच्छता अभियान के लाभ- सरकार द्वारा चलाए गए इस अभियान से लोग साफ सफाई के लिए काफी जागरूक हुए है। स्वच्छता हमारे जीवन पर सीधा असर डालती है। साफ सफाई से हमें बहुत से लाभ हुए है-

1. हम आज स्वच्छ वातावरण में जी रहे हैं। सब जगह सफाई के कारण हमारा पर्यायवरण बहुत ही स्वच्छ होता जा रहा है।
2. स्वच्छता की वजह से बिमारी कम फैल रही है और लोग स्वस्थ होते जा रहे है।न गंदगी होगी न बिमारी होगी।
3. जब आस पास कूड़ा कचरा नहीं होगा तो सब कुछ बहुत ही सुंदर दिखने लगता है।

निष्कर्ष- स्वच्छता हम सभी के जीवन का बहुत ही अहम हिस्सा है। हर कोई अपने आस पास साफ सफाई चाहता है लेकिन कोई भी इसके लिए आगे नहीं आना चाहता सब सोचते है कि कोई न कोई तो करेगा ही लेकिन हकीकत में हम सभी को मिलकर ही इसके लिए काम करना होगा। लोगों ने धीरे धीरे स्वच्छता के महत्तव को समझा भी है और भारत को स्वच्छ बनाने में योगदान भी दे रहे हैं। एक दिन हमारा भारत विश्व का सबसे सुंदर देश बनेगा।

# Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *