पर्यावरण पर भाषण- Speech on Environment in Hindi

In this article, we are providing information about Environment in Hindi. Speech on Environment in Hindi Language- पर्यावरण पर भाषण, स्पीच, Paryavaran Par Bhashan.

पर्यावरण पर भाषण- Speech on Environment in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य जी, समस्त अध्यापक गण एवं मेरे प्यारे सहपाठियों को नमस्कार। मेरा नाम रवि है और मैं नौंवी कक्षा का छात्र हूँ। मैं आज आप सब के समक्ष पर्यायवरण के विषय में विचार व्यक्त करना चाहता हूँ।

हम सब जानते है कि पृथ्वी एकमात्र ऐसा गृह है जिसपर पर्यायवरण मौजुद है और उसी की वजह से यहाँ पर जीवन संभव है। पर्यायवरण का अर्थ है एक ऐसा आवरण जो हमें चारों तरफ से घेरे हुए है। मनुष्य के आसपास मौजुद सभी भौतिक, रसायनिक और जैविक ईकाई पर्यायवरण कहलाती है।

पर्यायवरण हमारे लिए बहुत ही आवश्यक है जो कि हमें जीवन के लिए उपयोगी सभी संसाधन उपलब्ध कराता है। मनुष्य, पशु, पक्षी और सभी जीव जंतु पर्यायवरण पर निर्भर करते हैं। पर्यायवरण जो केवल हमें हमेशा उपयोगी समान प्रदान करता है। आज मनुष्य प्रगति की होड़ में निरंतर उसी पर्यायवरण को हानि पहुँचाता जा रहा है। हम शहरीकरण और उद्योगीकरण के लिए वनों को काटते जा रहे है और अपनी मानवीय गतिविधियों से पर्यायवरण को दुषित करता जा रहा है। मनुष्य ने यहाँ तक इतनी प्रगति कर ली है कि उसने कृत्रिम पर्यायवरण भी अपनी सुविधा अनुकुल बना लिया है।

पर्यायवरण को भौतिक, रसायनिक और जैविक ईकाईयों का समाविष्ट कहा जाता है और इन इकाईयों में किसी भी तरह का बदलाव पर्यायवरण प्रदुषण कहलाता है। पर्यायवरण के दुषित होने के बहुत से कारण है। वनों की कटाई से निरंतर हमारा पर्यायवरण दुषित हो रहा है। यातायात के साधन और बड़े बड़े उद्योग पर्यायवरण. दुषित करने में अहम भूमिका निभा रहे है। खनन प्रक्रिया और खुले में कचरा डालने की आदत ने भी प्रदुषण में वृद्धि की है।

पर्यायवरण जिसके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है उसके दुषित होने पर सब कुछ अस्त वयस्त सा हो जाता है। पर्यायवरण के दुषित होने के कारण मनुष्य बहुत से रोगों का शिकार हो जाता है। सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर पहुँच रही है। जलवायु परिवर्तन हो रहा है और फसलों को अनुकुल वातावरण नहीं मिल पा रहा है।

पर्यायवरण किसी एक मनुष्य, किसी एक धर्म या फिर किसी एक देश का नहीं है बल्कि पूरे विश्व को एक स्वच्छ वातावरण की आवश्यकता है। पर्यायवरण की सुरक्षा और पर्यायवरण प्रदुषण एक वैश्विक समस्या है जिसे हम सबको मिलकर सुलझाना होगा। हम सबको ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने चाहिए, खुले में कचरा नहीं फेंकना चाहिए और थोड़ी दुरी तय करने के लिए साईकिल का प्रयोग करना चाहिए या फिर पैदल भी चल सकते है। हमें प्लास्टिक को पूर्ण रूप से ना कहना चाहिए। स्कूलों में पर्यायवरण संबंधी विषय भी पढ़ाया जाना चाहिए और पर्यायवरण के हित में बहुत से कार्यक्रमों का भी आयोजन करना चाहिए।

पर्यायवरण के विषय में लोगों को जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष पर्यायवरण दिवस मनाया जाता है। हमें इस दिवस को बहुत ही उत्साह के साथ मनाना चाहिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इसकी तरफ आकर्षित हो सके।

अगर चाहते हो खुशहाल जीवन
तो हमेशा रखो स्वच्छ पर्यायवरण ।

इसी के साथ मैं आशा करता हूँ कि आप सब भी पर्यायवरण को स्वच्छ बनाए रखेंगे।

धन्यवाद।

# Environment Speech in Hindi # Speech on Save Environment in Hindi

प्रदूषण पर भाषण- Speech on Pollution in Hindi

महिला सशक्तिकरण पर भाषण- Speech on Women Empowerment in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Speech on Environment in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.