जाति प्रथा पर निबंध- Caste System | Jati Pratha Essay in Hindi

In this article, we are providing information about Caste System in Hindi Language. Jati Pratha Essay in Hindi- (जातिवाद) जाति प्रथा पर निबंध, Essay on Casteism in Hindi

जाति प्रथा पर निबंध- Caste System | Jati Pratha Essay in Hindi

भारत में विभिन्न धर्मों और विभिन्न जातियों के लोग रहते है और जाति प्रथा यहाँ की एक प्रमुख समस्या है। जाति प्रथा अथवा जातिवाद एक ऐसी प्रथा है जिसमें लोगों से जाति के आधार पर भेदभाव किया जाता है और निम्न जाति के लोगों को मानसिक रूप से बहुत सी यातनाओं का सामना करना पड़ता है। व्यक्ति के जन्म से ही निश्चित हो जाता है कि उसे जाति के आधार पर उच्च वर्ग में रखा जाऐगा या फिर निम्न वर्ग में रहेगा। जाति प्रथा विदेशों में वर्ण प्रथा की तरह ही है।

प्राचीन समय में जाति प्रथा- प्राचीन समय में उच्च वर्ग के लोग निम्न वर्ग के लोगों को देखना भी पसंद नहीं करते थे। वह उनके हाथ का पानी भी नहीं पीते थे। उन्हें हीन भावना से देखा जाता था और उन्हें शारीरिक और मानसिक रूप से यातनाएँ देते थे।

आधुनिक युग में जाति प्रथा- आज की 21वीं शताब्दी लोग चाहे कितने भी आधुनिक क्यों नहीं हो गए है लेकिन जाति प्रथा आज भी हमारे समाज में विद्यमान है।

जाति प्रथा से हानियाँ- जाति प्रथा की वजह से हमारा समाज बहुत से टुकड़ो में बँटा हुआ है और हमारे देश के नेता भी चुनाव के समय में जाति के नाम पर लोगों से वोट लेते है और जाति के नाम पर बहुत से दंगे भी होते हैं। जाति प्रथा ने समाज की एकता को खंडित कर दिया है।

निष्कर्ष- जाति प्रथा देश की एकता पर मंडराता हुआ सबसे बड़ा खतरा है। हमें किसी के भी साथ जाति के आधार पर भेदभाव नहीं करना चाहिए क्योंकि कोई भी इंसान जाति से उच्च या निम्न नहीं होता है। किसी भी इंसान के कर्म ही उसे उच्च बनाते हैं। युवा ही अपनी आधुनिर सोच से जाति प्रथा को खत्म कर सकते है। जाति प्रथा खत्म करना बहुत आवश्यक है और तभी देश प्रगति कर सकेगा।

# Essay on Jati Pratha in Hindi # Essay on Caste System in Hindi

मेरा भारत महान पर निबंध- Mera Bharat Mahan Essay in Hindi

राष्ट्रभाषा पर निबंध- Essay on National Language in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Jati Pratha Essay in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *