वन महोत्सव पर निबंध- Essay on Van Mahotsav in Hindi

In this article, we are providing information about Van Mahotsav in Hindi- Essay on Van Mahotsav in Hindi Language. वन महोत्सव पर निबंध- Van Mahotsav Essay in Hindi for Children & Students.

Essay on Van Mahotsav in Hindi

वन महोत्सव पर निबंध- Essay on Van Mahotsav in Hindi

Van Mahotsav Essay in Hindi- वन महोत्सव पर निबंध ( 150 to 200 words )

हमारे देश में पुराने जमाने में बहुत जंगल थे। वे अधिकतर काट लिये गये हैं। नये वृक्ष नहीं लगाये गये। हरियाली समाप्त हो गयी। वर्षा कम हो गयी। देश रेगिस्तिान बनने लगा । इस कमी को पूरा करने के लिए पौधे लगाने और वनों का विस्तार बढ़ाने की आवश्यकता महसूस की गयी। केन्द्र सरकार सन् 1950 से हर साल वन महोत्सव कार्यक्रम देश-भर मनाने लगी। आंध्रप्रदेश सरकार कुछ सालों से इस कार्यक्रम पर जोर दे रही है। विद्यार्थियों और नागरिकों को पौधे लगाने को प्रोत्साहित कर रही है।

वन महोत्सव का मुख्य उद्देश्य जनता को वनों का विस्तार बढ़ाने की आवश्यकता बताना है।

वनों से कई लाभ हैं –
1. पर्यावरण कलुष कम होता है।
2. वन में मिलनेवाली जड़ी-बूटियाँ दवाओं का काम करती हैं।
3. इंधन, कागज, पेंसिल, बक्स, डिब्बे आदि को बनाने के लिए आवश्यक लकड़ी मिलती है।
4. फल, फूल मिलते हैं।
5. बाढ़ रोकने में सहायक हैं।
6. परिसर प्रदेशों को समशीतोष्ण रखते हैं।
7. मिट्टी के कटाव को रोकते हैं।

वन संरक्षण की आवश्यकता को दृष्टि में रखकर हरेक व्यक्ति कमसे-कम एक पौधा डालकर उसको सम्भाले। अपने घर के परिसरों में पौधे डालें और देखभाल के सम्बन्ध में भी श्रद्धा लें।

 

जरूर पढ़े- पेड़ों का महत्व निबन्ध- Essay On Importance Of Trees in Hindi

 

Essay on Van Mahotsav in Hindi ( 400 to 500 words )

वन का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। यह मनुष्य से लेकर पशु पक्षियों तक सबके लिए उपयोगी है। यह हमसे कभी कुछ नहीं माँगते सिर्फ हमें देते है। पेड़ हमें तपती धूप में छाया , फल फूल आदि प्रदान करते हैं।

हर साल जुलाई के प्रथम सप्ताह में वन महोत्सव मनाया जाता है। 1950 में पेड़ो की कटाई को रोकने के लिए इसकी शुरूआत की गई थी लेकिन उस समय यह सिर्फ कागजों में सिमट कर रह गया था और वनों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया था। यदि कुछ पेड़ लगाए भी गए थे तो उन्हें पानी नहीं दिया गया था जिस वजह से वह पूर्ण रूप से सुख गए थे।उसके बाद इंदिरा गाँधी के बेटे संजय गाँधी ने पेड़ लगाओ कार्यक्रम शुरू किया जिसमें लोगो को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने के लिए प्रोरित किया गया और बिना सरकार की अनुमति के पेड़ काटने पर पाबंधी लगाई गई । जुलाई अगस्त में वर्षा के समय पेड़ लगाए जाते हैं ताकि पेड़ो को पानी आसानी से मिल सके।

आज के युग में मनुष्य अपने आवास स्थान और उद्योगों को बनाने के लिए वनों को काटता जा रहा है। वह धीरे धीरे पेड़ो का महत्व भूलता जा रहा है। मनुष्य तकनीक की होड़ में भूलता जा रहा है कि पेड़ उसके परम मित्र है। पेड़ उन्हें आजीविका का साधन और ईंधन भी प्रदान करते हैं। पेड़ बहुत से वन्य जीवों का घर है। पेड़ो की कटाई की वजह से बहुत सी वन्य प्रजाति लुप्त होती जा रही है। प्राचीन काल से ही पेड़ मानव जीवन में अहम भूमिका निभाते आए हैं। यह पुजनीय है और इनसे ओषधि भी प्राप्त होती है।

वन महोत्सव मनाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगोम रो पेड़ लगाने के लिए प्रेरित किया जा सके जिससे कि प्रदुषण कम हो और श्वास लेने के लिए शुद्ध ऑक्सीजन प्राप्त हो सके। इस सप्ताह लोगोम को पेड़ो के गुण और पेड़ो को काटने से होने वाली हानियों के विषय में बताया जाता है। स्कूल और कॉलेजों में बच्चे मिलकर पौधे लगाते हैं। कुछ संगठन मुफ्त में भी पौधे वितरित करते है। हम सबको हर साल एक पौधा तो अवश्य लगाना चाहिए और उसे पानी देकर उसका विकास करना चाहिए। आज का लगाया हुआ पौधा हमें कल को बहुत लाभ देगा। पेड़ वर्षा कराने में भी सहायक है जो कि तपती धरती को लिए बहुत जरूरी है। ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाओ और वातावरण को स्वच्छ बनाओ।

Essay on Tree Plantation in Hindi- वृक्षारोपण पर निबंध

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Van Mahotsav in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

1 thought on “वन महोत्सव पर निबंध- Essay on Van Mahotsav in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.