अस्पृश्यता पर निबंध- Essay on Untouchability in Hindi

In this article, we are providing an Essay on Untouchability in Hindi अस्पृश्यता पर निबंध, छुआछूत एक अभिशाप पर निबंध | Essay in 200, 300, 500 words For Class 7,8,9,10,11,12 Students. Asprushyata par Nibandh

अस्पृश्यता पर निबंध- Essay on Untouchability in Hindi

भूमिका 

भारत कई धर्मों और जातियों से बना एक लोकतांत्रिक देश है। लोकतंत्र होने के साथ-साथ भारत में बहुत सारी समस्याएं भी हैं और जिनमें से एक है अस्पृश्यता की समस्या। यह भारत के हिंदू समाज से जुडी हुई एक बहुत पुरानी और गंभीर समस्या है। यह सिर्फ एक समस्या ही नहीं है बल्कि एक बीमारी है जो और कई बीमारियों को भी जन्म देती है। भारत के इतिहास में भी लोगों के एक विशेष समूह के खिलाफ भेदभाव की घटनाएं देखी गई हैं, जो कि ज्यादातर जाति और अस्पृश्यता की पारंपरिक प्रणालियों से सम्बंधित हैं।

अस्पृश्यता क्या है? Meaning of Untouchability in Hindi

अस्पृश्यता(untouchility) एक ऐसी प्रथा है जिसमें कुछ निचली जाति के लोगों को सामाजिक समानता से वंचित रखा जाता है और उनके साथ उनकी जातियों के आधार पर भेदभाव किया जाता है। यह प्रथा भारत में बहुत लंबे समय से चलती आ रही है। आमतौर पर देखा जाता है कि उच्च जाति के कुछ लोगों द्वारा निम्न जाति के लोगों के साथ अमानवीय व्यवहार करते है। इन निम्न जाति के लोगों को हर जगह पर विभिन्न प्रकार के भेदभाव से गुजरना पड़ता है।

अस्पृश्यता या छुआछूत की प्रथा को अक्सर हिंदू धर्म से जोड़ा जाता है और माना जाता है कि यह केवल भारत में पाई जाती है जब की ऐसा नहीं है, बल्कि यह प्रथा और भी बहुत सारे  देशों में अलग-अलग नामों से प्रचलित है।

अस्पृश्यता का इतिहास एबं उत्पत्ति?

आज हम जिस जाति व्यवस्था को देखते हैं, इसका उच्चारण केवल एक पुस्तक में नहीं बल्कि कई ग्रंथों में किया गया है। जाति व्यवस्था का सबसे प्राचीन उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है ऐसा माना जाता है कि इसे 1500-800 ईसा पूर्व के बीच विकसित किया गया था, तब इसे वर्ण व्यवस्था कहा जाता था जिसने समाज को चार वर्णों में वर्गीकृत किया:

ब्राह्मण: पुजारी, विद्वान और शिक्षक;

क्षत्रिय: शासक, योद्धा और प्रशासक;

वैश्य: पशुपालक, कृषक, कारीगर और व्यापारी;

शूद्र: मजदूर और सेवा प्रदाता;

इन भेदों का उल्लेख पुरुष सूक्त वेद में किया गया था, हालांकि कुछ विद्वानों का यह भी मानना है कि इन खंडों को वैदिक काल के बाद इसमें जोड़ा गया था।

अस्पृश्यता के कारण

1.नस्लीय विचार: अस्पृश्यता के मूल कारणों में से एक कारण है नस्लीय विचार । भारत में कई जनजातियाँ हैं, लेकिन विकसित और सुसंस्कृत आर्यों ने भारतीय जनजातियों को हराया जिसके कारण विजेता हमेशा खुद को पिछड़ों से श्रेष्ठ और अन्य जातियों से ऊपर मानता है। कुछ विद्वानों के अनुसार, आर्य आक्रमणकारियों ने भारत में बसने वाली गैर-आर्य जातियों को कुछ अपमानजनक नाम दिए और उन्हें अछूत माना भी था।

2.धार्मिक तत्व: अस्पृश्यता में धार्मिक प्रक्रिया, विश्वास और सम्मेलन नियम महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। धर्म में धार्मिकता और धर्मविज्ञान को एक महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है।अस्पृश्यता में धार्मिक तत्व एक बड़ा कारण भी है।

3.सामाजिक पहलु: अस्पृश्यता को बनाए रखने में सामाजिक कारक भी समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। धार्मिक और जातीय कारण सामाजिक रीति-रिवाजों को मान्यता देते हैं और अस्पृश्यता की व्यापकता को उचित ठहराते हैं। कुछ समाजशास्त्रियों का मानना है कि प्रणाली की उत्पत्ति आंशिक रूप से नस्लीय, धार्मिक और सामाजिक रीति-रिवाजों का मामला है।

अस्पृश्यता को दूर करने के लिये कुछ कदम

1949 में इस शब्द और इसके साथ जुड़े सामाजिक विकलांगों के उपयोग को भारतीय संविधान द्वारा अवैध घोषित कर दिया गया था। संवैधानिक संशोधनों और सालों तक संघर्ष करने के बावजूद भी छुआछूत की प्रथा हमारे समाज में अपनी पहचान बनाए हुए है। कुछ शिक्षित लोग पढ़े लिखे हो कर भी इन प्रथाओं का पालन करते हैं।

हम अपने समाज से अस्पृश्यता को दूर करने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं। उच्च जातियों द्वारा हरिजनों के शोषण को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तरीका है कि अनकी वित्तीय स्थितियों को सुधारने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं। उन्हें शिक्षित करना, व्यावसाय और रोजगार प्रदान करना भी इस उद्देश्य को प्राप्त कर सकता है।

निष्कर्ष 

इस बात को ठुकराना मुशकिल ही नहीं नामुमकिन है कि जाति व्यवस्था ने लंबे समय के लिय भारतीय समाज को आकार दिया है, जो की प्राचीन ग्रंथों और महाकाव्यों की संक्षिप्त व्याख्या के कारण संभव हुआ। इसने व्यापक उत्पीड़न और परंपरागत अधिकारों को जन्म दिया है जो आज भी जारी है। इस तरह की मध्यकालीन प्रथाओं द्वारा किए गए नुकसान को पूर्ववत करने के लिए उठाए गए कदमों को अधिक प्रभावी बनाया जाना चाहिए ताकि समाज में आगे अस्पृश्यता पैदा न हो।

# meaning of untouchability in Hindi

Human Rights Essay in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Untouchability in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.