Essay on Pigeon in Hindi- कबूतर पर निबंध

In this article, we are providing information about Pigeon in Hindi- Short Essay on Pigeon in Hindi Language. कबूतर पर निबंध- Kabutar par Nibandh.

Essay on Pigeon in Hindi- कबूतर पर निबंध

10 Lines Essay on Pigeon in Hindi

1. कबूतर पुरे विश्व मैं पाये जाते है, इनकी कुल आबादी 40 करोड़ है।

2. यह पक्षी आहार में गेहूं, चना, साबुत अनाज या फिर भुट्टे का दाना आदि खाता है।

3. कबूतर झुंडो मै रहना पसंद करते है, इनका 20-25 कबूतरो का झुण्ड होता है।

4. राजा महाराजाओ के समय कबूतरो का उपयोग संदेश वाहक के रूप में किया जाता था।

5. कबूतर और इंसान 10 हजार सालों से साथ में रहते आ रहे है।

6. कबूतर एक बार में 5-6 अंडे दे सकते हैं ओर अपने जीवन काल में 100 से भी ज्यादा अंडे दे सकते हैं।

7. कबूतर मै सुनने की उत्तम छमता होती है और यह पक्षी आने वाली विपदा या घटना का अंदाजा लगा लेते है।

8. इनकी उम्र वैसे तो 3-5 साल तक की होती है।

9. कबूतर वर्ण माला के 26 अक्षर भी आसानी पहचान लेते हैं।

10. कबूतर एक्लोटी इसी प्रजाति है जो अपनी तस्वीर को सीसे मै देख कर पहचान लेते है।

 

Pigeon Essay in Hindi ( 400 words )

कबूतर एक बहुत ही सुंदर पक्षी है और यह पूरे विश्व में पाया जाता है। यह लोगों के द्वारा प्राचीन काल से ही पालतू पक्षी के रूप में प्रयोग किया जाता है। कबूतर विभिन्न प्रकार के और तरह तरह के रंग में पाए जाते हैं। यह सफेद स्लेटी और भूरे रंग में पाए जाते हैं। भारत में केवल स्फेद और स्लेटी कबुतर पाए जाते हैं। सफेद कबूतर घरों में पाले जाते हैं जबकि स्लेटी और भूरे कबूतर जंगलों में पाए जाते हैं। कबूतर का पूरा शरीर पंखो से ढका होता है और यह ब्ना रूके काफी देर तक उड़ सकते हैं। कबूतर के पास एक चोंच होती है और इसके पंजे ज्यादा नुकीले नहीं होते हैं। इनके पंजो की बनावट इस तरह होती है कि यह आसानी से पेड़ की शाखाओं को मजबूती से पकड़ सकते हैं।

कबूतर बहुत ही शांत स्वभाव के होते हैं और इन्हें प्राचीन काल में जब संचार का कोई माध्यम नहीं था तो संदेश देने के लिए भेजा जाता था और उन कबुतरों को जंगी कबुतर का नाम दिया जाता था। इन्हें शांति का प्रतीक माना जाता है। कबूतर बहुत ही बुद्धधिमान पक्षी होता है। यह अपना रहने का स्थान ऊँची ईमारतों और ऐताहिसिक ईमारतों के ऊपर बनाते हैं। कबुतर की जंगल में आयु 6 वर्ष होती है। ज्यादातर कबूतर शाकाहारी होते हैं। वह अनाज, बाजरे के दाने और फल आदि खाते हैं। इनकी याद्दाश्त बहुत अच्छी होती है। यह मिलों का सफर तय करके वापिस उसी राह से दोबारा अपने स्थान पर जा सकते हैं। कबूतर अपनी सुंदरता के कारण राजा महाराजाओं के महलों में भी रहते हैं। कबूतर को अच्छे भाग्य का प्रतीक भी माना जाता है। कबूतर 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ते हैं।

कबूतर अपने आप को शीशे में देखकर पहचान लेते हैं और प्रतिबिंब को देखकर धोखा नहीं खाते हैं। कबुतर किसी भी व्यक्ति को नहीं भूलते हैं और दोबारा दिखने पर उन्हें पहचान लेते हैं। कबुतरों को समूह में रहना पसंद होता है और साथ ही इन्हें इंसानों के साथ रहना भी अच्छा लगता है। कबूतर पूरे जीवन एक ही जोड़ा बनाकर रखते हैं। यह एक समय में 2 अंडे देते हैं। 19-20 दिन में चूजे अंडे से बाहर आ जाते हैं और अंडो को नर और मादा दोनों सेकते हैं। कबुतर स्वभाव से मिलनसार होते हैं। कबुतर की देखने और सुनने की क्षमता अद्भुत होती है। वह भूकंप और तुफान की आवाजें आसानी से सुन लेते हैं।

#Pigeon Essay in Hindi # Information About Pigeon in Hindi

राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध- Essay on Peacock in Hindi

तोते पर निबंध- Essay on Parrot in Hindi

बतख पर निबंध- Essay on Duck in Hindi

खरगोश पर निबंध- Essay on Rabbit in Hindi Language

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Pigeon in Hindi (Article)आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.