अटल बिहारी वाजपेयी पर निबंध- Essay on Atal Bihari Vajpayee in Hindi

In this article, we are providing information about Atal Bihari Vajpayee in Hindi- Essay on Atal Bihari Vajpayee in Hindi Language. अटल बिहारी वाजपेयी पर निबंध

अटल बिहारी वाजपेयी पर निबंध- Essay on Atal Bihari Vajpayee in Hindi

अटल बिहारी वाजपयी एक महान नेता थे जो भारतीय जनता पार्टी से संबंध रखते थे। वह भारत के दँसवे प्रधानमंत्री थे। वह पत्रकार और अच्छे वक्ता भी थे। उन्होंने पंचजन्य, वीर अर्जुन जैसी पत्रिकाओं का संपादन भी किया और वह एक सुप्रसिद्ध कवि भी थे।

जन्म- अटल बिहारी वाजपयी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में हुआ था। इनके पिता का नाम कृष्ण बिहारी वाजपयी और माता का नाम कृष्णा वाजपयी था। इनके पिता एक अध्यापक थे और साथ ही वह ब्रज भाजा में कवि भी थे।

शिक्षा- अटल बिहारी वाजपयी ने अपनी बी.ए. ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से की थी और राजनैतिक विग्यान में एम.ए. की परीक्षा उन्होंने कानपुर के डी.ए. वी कॉलेज से की थी। वह कॉलेज के समय में ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बन गए थे। उन्होंने एम.ए. करने के पश्चात कानपुर में ही अपने पिता जी के साथ एल.एल. बी. की पढ़ाई शुरू की जिसे उन्होंने बीच में ही रोक दिया था।

राजनीतिक जीवन- अटल बिहारी वाजपयी सबसे पहले 1957 में जनसंघ के प्रत्याशी के रूप में जीत हासिल कर लोकसभा में पहुँचे थे। वह 1968-1973 तक भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे। । 1977-1979 तक वह विदेश मंत्री रहें और 1980 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की स्थापना की थी। वाजपयी ने अपने जीवनकाल मे दो बार शासन किया। वह 1998 में भारत के प्रधानमंत्री बने और 2004 तक प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होनें 2005 में राजनीति से संयास ले लिया था।

मृत्यु- 2009 में दौरा पड़ने के कारण अटल बोलने में अस्क्षम हो गए ,थे। 11 जुन , 2018 से ही उनकी किडनी में संक्रमण और बाकी स्वास्थय से जुड़ी सम्सयाओं के कारण वह बिमार रहने लगे थे। 16 अगस्त, 2018 को अखिल भारतीय आयुर्विग्यान संस्थान में उनका निधन हो गया। 17 अगस्त को उनका देह संस्कार राजघाट के निकट शांतिवन में किया गया था।

निष्कर्ष- अटल बिहारी वाजपयी सकारात्मक विचारों और उच्च चरित्र वाले व्यक्ति थे जिन्हें अपने देश से बहुत प्यार था। उन्होंने विवाह नहीं किया था लेकिन उनकी एक दतक पुत्री है नमिता कोल भट्टाचार्य। वाजपयी ने हमेशा देश के हित के लिए कार्य किए थे। उनके आश्चर्यचकित कार्यों के लिए उन्हें 2015 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उनकी सोच और अच्छे कर्मों के कारण वह आज भी लोगों के दिलों में जिंदा है। उन्होंने भारत को एक परमाणु संपन्न देश बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

# Atal Bihari Vajpayee in Hindi essay # Atal Bihari Vajpayee Essay in Hindi

रामनाथ कोविंद पर निबंध- Essay on Ram Nath Kovind in Hindi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध- Essay on Narendra Modi in Hindi

APJ Abdul Kalam Essay in Hindi- ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Atal Bihari Vajpayee in Hindi (Article)आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.