महात्मा गाँधी पर भाषण- Speech on Mahatma Gandhi in Hindi

In this article, we are providing information about Mahatma Gandhi in Hindi. Speech on Mahatma Gandhi in Hindi Language- महात्मा गाँधी पर भाषण, स्पीच

महात्मा गाँधी पर भाषण- Speech on Mahatma Gandhi in Hindi

माननीय अतिथि महोदय, आदरणीय प्रधानाचार्य जी, समस्त अध्यापक गण एवं मेरे प्यारे सहपाठियों को नमस्कार। मेरा नाम मोहित है और मैं दँसवी कक्षा में पढ़ता हूँ। आज गाँधी जयंती के दिन मैं आप सब लोगों के समक्ष महात्मा गाँधी जी के बारे में अपने विचार व्यक्त करना चाहता हूँ।

हम सब जानते है कि महात्मा गाँधी जी भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख आंदोलनकारी थे। महात्मा गाँधी जी का पूरा नाम मोहनदास कर्मचंद गाँधी था और इनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक शहर में हुआ था। उनके पिता का नाम कर्मचंद गाँधी थे जो राजकोट में दीवान थे और माता का नाम पुतलीबाई था। गाँधी जी पढ़ने में एक औसतन विद्यार्थी थे और कठिन परिश्रम के बाद वह पढ़ने के लिए इंग्लैंड भी गए थे और वहाँ से वकालत की उपाधि प्राप्त की थी। गाँधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में रंग के आधार पर भेदभाव को खत्म किया था। गाँधी जी का विवाह कस्तुरबा बाई से हुआ था।

गाँधी जी ने अपना पूरा जीवन सरलता के साथ यापन किया था। 1915 में भारत लौटकर वह कांग्रेस में शामिल हो गए थे। वह खादी के बने वस्त्र पहनते थे और कभी भी शराब नहीं पीते थे और न हीं माँस खाते थे। उन्होंने सत्य और अहिंसा को अपने सबसे सर्वश्रेष्ठ हथियार बनाया था और इसी के बल पर आजादी की लड़ाई लड़ी थी। उन्होंने हमेशा लोगों को सच बोलने और अहिंसा के मार्ग पर चलने की सलाह दी थी। गाँधी जी ने असहयोग आंदोलन भी चलाया था जिसमें उन्होंने विदेशी कपड़ो की होली जला लोगों को स्वदेशी कपड़े अपनाने को कहा था। गाँधी जी को सभी लोग प्यार से बापू जी कहकर बुलाते थे।

गाँधी जी ने जन कल्याण के लिए भी बहुत से कार्य किए थे। उन्होंने लोगों के स्वास्थय के लिए हानिकारक शराब के ठेको को बंद करवाया था और उन्होंने निम्न जाति के लोगों को हरिजन की उपाधि दी थी। गाँधी जी को राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने ब्रिटिश सरकार के बहुत से कानुनों का विरोध किया था और लोगों को स्वतंत्रता क्रांति में भाग लेने के लिए प्रेरित किया था।

गाँधी जी की दांडी यात्रा ने अंग्रेजों को हिला कर रख दिया था और उनके प्रयसों के कारण ही अंग्रेज भारत छोड़ने को विवश हुए थे और हमें 15 अगस्त, 1947 को स्वतंत्रता की प्राप्ती हुई थी।

गाँधी जी भगवान में विश्वास करते थे और हर समय राम का भजन करते थे। जब 30 जनवरी, 1948 को नाथुराम गोडसे ने उन्हें गोली मारी थी तब भी उनके मुख से आखिरी शब्द हे राम ही निकले थे।

गाँधी जी एक महान स्वतंत्रता सैनानी थे जिन्होंने देश में स्वतंत्रता क्रांति ला दी थी। आज हमारे भारतीय नोटों पर भी महात्मा गाँधी जी की तस्वीर छपी हुई है। उन्हें पूरे देश में बहुत ही सम्मान दिया जाता है। उन्होंने पूरे भारत को प्रेम और अहिंसा से रहने की प्रेरणा दी थी।

हम सभी को भी उनकी दिखाई सत्य और अहिंसा की राह पर चलना चाहिए और उनके बलिदान को कभी नहीं भूलना चाहिए।

धन्यवाद।

# mahatma gandhi speech in hindi # speech on gandhiji in hindi

स्वच्छ भारत अभियान पर भाषण- Speech on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

प्रदूषण पर भाषण- Speech on Pollution in Hindi

महिला सशक्तिकरण पर भाषण- Speech on Women Empowerment in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Speech on Mahatma Gandhi in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *