यातायात के साधन पर निबंध- Essay on Means of Transport in Hindi

In this article, we are providing information about Means of Transport in Hindi- Essay on Means of Transport in Hindi Language. यातायात के साधन पर निबंध, Yatayat ke sadhan Par Nibandh.

यातायात के साधन पर निबंध- Essay on Means of Transport in Hindi

भूमिका- यातायात के साधनों को परिवहन के साधन भी कहा जाता है। कोई भी साधन जिसका प्रयोग एक स्थान से दुसरे स्थान तक आने जाने के लिए किया जाता है उसे यातायात का साधन कहा जाता है। यातायात के साधनों के कारण मनुष्य कई दिनो का सफर कुछ दिनों में ही तय कर लेता है। इनके आविष्कार से मनुष्य के श्रम और समय की बचत हुई है। यातायात के साधन मनुष्य के लिए बहुत ही उपयोगी है।

प्राचीन काल- प्राचीन काल में मनुष्य के पास यातायात के साधन नहीं थे और वह पैदल ही यात्रा करता था। एक स्थान से दुसरे स्थान पर पहुँचने में उसे लंबा समय लग जाता था।

मध्यम युग- मध्यम युग में मनुष्य ने यातायात के साधन के रूप में पशुओं का प्रयोग करना शुरू किया। पहिए के आविष्कार से यातायात के साधनों में क्रांति आई जिससे तांगा, इक्का आदि यातायात के साधन बनाए गए थे।

आधुनिक युग- आज का युग विग्यान का युग है और विग्यान ने इतनी प्रगति कर ली है कि उसने अलग अलग मार्ग के लिए अलग अलग यातायात के साधन बनाए हैं। आज के युग में यातायात के बहुत ही सुलभ और सरल साधन है जिनका प्रयोग हर व्यक्ति के द्वारा संभव है। विभिन्न प्रकार के यातायात के साधन निम्नलिखित है-

1. भूमिगत यातायात साधन- यह वह साधन है जिनका प्रयोग गलियों और सड़को के रास्ते से एक स्थान से दुसरे स्थान पर जाने के लिए किया जाता है।
इसके अंतर्गत मोटर साईकिल, स्कुटर, साईकिल, बस, ऑटो, रेलगाड़ी आदि आते हैं।

2. जलीय यातायात साधन- यातायात के बहुत से साधन ऐसे है जिनका प्रयोग जलीय मार्ग से यात्रा करने के लिए किया जाता है। इसके अंतर्गत नौका, जलीय जहाज, क्रूज आदि आते है।

3. वायु मार्ग यातायात साधन- यह वह साधन होते हैं जिनमें व्यक्ति वायु के मार्ग से दुसरे स्थान पर जाता है। इसके अंतर्गत हवाई जहाज आता है।

निष्कर्ष- यातायात के इन साधनों ने जहाँ मनुष्य को इतनी सहुलियत दी है वहीं इनकी वजह से बहुत सी हानियाँ भी है। हर रोज दुर्घटनाओं के किस्से सामने आते हैं। यातायात के साधनों ने मनुष्य को आलसी बना दिया है। मनुष्य ने पैदल चलना छोड़ दिया है। यातायात साधनों के कारण पर्यायवरण में प्रदुषण की मात्रा में वृद्धि हुई है इसलिए हम सीमित मात्रा में ही साधनों का प्रयोग करना चाहिए और जहाँ तक हो सके थोड़ी दुरी की यात्रा पैदल ही करनी चाहिए और इन्हें सुरक्षा पुर्वक चलाना चाहिए।

Kisi Yatra Ka Varnan Essay in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Means of Transport in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *