खरगोश पर निबंध- Essay on Rabbit in Hindi Language

In this article, we are providing information about Rabbit in Hindi- Short Essay on Rabbit in Hindi Language. खरगोश पर निबंध- Khargosh par Nibandh.

खरगोश पर निबंध- Essay on Rabbit in Hindi Language

खरगोश धरती पर रहने वाला जीव है। इसकी बहुत सी प्रजातियाँ पाई जाती है। यह सफेद काले और भूरे रंग में पाया जाता है। इसकी आँखे गोल और बड़ी होती है। इसके दो बड़े दाँत बाहर निकले हुए होते हैं और इसके कान भी बहुत बड़े होते हैं। यह स्वभाव से चंचल होता है और हर समय चंचल रहता है। इसके शरीर पर बहुत ही मुलायम बाल होते हैं। इसकी एक छोटी पूँछ भी होती है। खरगोश की औसतन आयु 10 वर्ष होती है। लेकिन शिकारियों के कारण यह एक साल ही जी सकते हैं। मादा खरगोश एक समय में 9 बच्चों को जन्म देती है। खरगोश हर समय उछल कुद करते रहते हैं।

खरगोश के चार पैर होते हैं। इसकी 8 प्रजातियाँ पाई जाती है। इसके 28 दाँत होते है जो कि पूरे जीवन बढ़ते ही रहते हैं। खरगोश से अंगोरा नाम की ऊन प्राप्त होती है। खरगोश 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ते है। इनकी सुनने की शक्ति बहुत अधिक होती है। इनका दिल बहुत तेजी से दड़कता है। वैसे तो खरगोश पूरे विश्व में पाए जाते हैं लेकिन यह मुख्य रूप से दक्षिण अमेरिका में पाए जाते हैं। खरगोश शाकाहारी होते हैं। यह अनाज और फल खाते हैं और खाने में इन्हें सबसे ज्यादा गाजर पसंद है। खरगोशों को किसी भी चीज का ईधर उधर होना पसंद नहीं इसलिए यह दिमाग में हर जगह का नक्शा बना लेते है। इनकी याद्दाश्त बहुत ही कमाल की होती है। खरगोश को समूह में रहना बहुत ही पसंद होता है। जब यह पैदा होते है तो इनके शरीर पर बाल नहीं होते हैं लेकिन बाद में उग जाते हैं। हर दो साल बाद इनके बाल जड़ जाते हैं और उसी स्थान पर दोबारा बाल आ जाते हैं। खरगोश हर समय चोकन्ना और चुस्त रहते हैं। इन्हें हल्की सी आहट का भी पता लग जाता है। यह जमीन में बिल बनाकर रहते हैं।

खरगोश एक दुसरे की सहायता भी करते हैं। इनका बड़े पैमाने पर पालन भी किया जाता है। लोग उनके माँस को खाते हैं। खरगोश के कान 10 सेंटीमीटर तक लंबे होते हैं और इनका प्रजनन काल 30 दिन का होता है। खरगोश बच्चों को बहुत पसंद होते हैं। लोग खरगोश को घर में पालतू जानवर बनाकर भी रखते हैं। जन्म के 11 दिन तक खरगोश के बच्चे चल नहीं सकते लेकिन 14-15 दिन में वह खुद से खाना पीना भी सीख जाते हैं। खरगोश नीडर होते हैं।

#Rabbit Essay in Hindi

राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध- Essay on Peacock in Hindi

तोते पर निबंध- Essay on Parrot in Hindi

बतख पर निबंध- Essay on Duck in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Rabbit in Hindi Language (Article)आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *