Unity is Strength Story in Hindi- एकता में बल है कहानी

Moral Story in Hindi- एकता में बल है/Ekta mein bal hai story in 300 words.

Unity is Strength Story in Hindi- एकता में बल है कहानी

घास के छोटे-छोटे तृण हवा में उड़ जाते हैं। लेकिन जब उन्हीं तृणों को जोड़ कर और वट कर रस्सी बनाई जाती है तो उस रस्सी से शक्तिशाली हाथी भी बाँधा जा सकता है। स्पष्ट है कि एकता में बल होता है जो निम्न कहानी से भी सिद्ध हो जाता है।

एक जंगल में एक शिकारी प्रतिदिन जाया करता था। पक्षियों का शिकार करने की इच्छा से वह रोज उन्हें दाना डालता। पक्षी जब दाना चुगने आते तो शिकारी अपना जाल पक्षियों पर फैला देता और एक-दो पक्षी प्राय: उसका शिकार बन जाते। इस पर पक्षी बहुत परेशान ड उठे। उन्होंने यह निश्चय किया कि किस तरह से शिकारी के चंगुल से छूटा जा सकता है एक वृद्ध पक्षी ने उन्हें सलाह दी कि अब जब शिकारी चोगा लेकर जाल फैलाने की इच्छा से आएगा तो हम सब पक्षी उस जाल में चले जाएंगे और सभी अपना जोर लगा कर इस जाल को उड़ा ले जाएंगे। सब पक्षियों ने उस वृद्ध पक्षी की बात मान ली।

दूसरे दिन जब शिकारी चोगा लेकर आया और अपना जाल फैलाया तो सभी पक्षी चोगा लेने के लिए शिकारी की तरफ पहुंच गए। शिकारी सभी पक्षियों को अपनी ओर आया देख बहुत खुश हुआ कि आज बहुत से पक्षियों का शिकार मिलने का सौभाग्य प्राप्त होगा। परन्तु जैसे ही शिकारी ने अपना जाल उन पक्षियों पर फैलाया वे सभी पक्षी उस जाल को ही लेकर उड़ गए। शिकारी यह देखर हक्का-बक्का रह गया। पक्षी मन ही मन बहुत प्रसन्न हो वे कि सभी पक्षी एकता के कारण ही उस जाल को लेकर उड़ने में सफल हो सके सचमुच यदि पक्षी इस प्रकार संगठित न होते तो रोज किसी न किसी पक्षी की बारी रहनी थी। पक्षियों की इस एकता के कारण ही वे समस्या का समाधान कर पाए। तभी कहा गया है कि एकता में इतना बल है कि मिल जुल कर काम करने से कोई भी बड़े बड़ा कार्य सिद्ध किया जा सकता है।

शिक्षा-एकता में बल है।

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Unity is Strength Story in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/hindikiguide/public_html/wp-includes/functions.php on line 5219