ग्राम पंचायत पर निबंध- Essay on Gram Panchayat in Hindi Language

In this article, we are providing information about Gram Panchayat in Hindi- Short Essay on Gram Panchayat in Hindi Language. ग्राम पंचायत पर निबंध- Gram Panchayat Par Nibandh.

ग्राम पंचायत पर निबंध- Essay on Gram Panchayat in Hindi Language

भारत की अधिकतर जनसंख्या गाँवों में रहती है और जिस प्रकार एक राज्य के लिए राज्य सरकार है और नगरों के लिए नगर पालिका है वैसे ही गाँवों के लिए ग्राम पंचायत को बनाया गया है। ग्राम पंचायत लगभग हर गाँव में है और यह गाँव में होने वाली गतिविधियों पर नजर रखती है और उनके विकास के लिओ कार्य करती हैं। किसी भी गाँव के सभी व्यस्क मिलकर ग्राम सभा का निर्माण करते हैं और वहीं सब मिलकर कार्य करने वाले लोगों को चुनते हैं। ग्राम पंचायत में पंचो का चुनाव किया जाता है और वहीं पंच मिलकर सरपंच को चुनते है और ग्राम पंचायत का निर्माण करते हैं।

ग्राम पंचायत को गाँव के लोगों के हित के लिए कार्य करना होता है। वह दो प्रकार से कार्य होती हैं। एक होते हैं अनिवार्य कार्य और दुसरे होते हैं एच्छिक कार्य। अनिवार्य कार्यों के अंतर्गत गाँव में पानी , बिजली आदि की व्यवस्था करना है। पढ़ने के लिए स्कूल कॉलेज खोलना हैं। लोगों को रोजगार दिलाना है। एच्छिक कार्यों के अंतर्गत कुएँ आदि बनवाना आता है और वह यह सिर्फ अपनी मर्जी से करते हैं।

ग्राम पंचायत को कार्य करने के लिए पैसों की जरूरत होती है जो कि उन्हें लोगों से कर जमा करके प्राप्त होता है या फिर सरकार के द्वारा दिया जाता है। सरकार द्वारा दी गई राशि को वो जनता के कल्याण के लिए प्रयोग करते हैं। ग्राम पंचायत में भी आजकल बहुत सारी कमियाँ आने लगी है। सालों से जो लोग सरपंच बनते आ रहे हैं हर बार उन्हीं के परिवार से कोई सरपंच बनता है जिससे कि बाकि लोगों को मौका नहीं मिलता सरकार के धन का भी सहीं तरह से प्रयोग नहीं किया जाता है। लोग उन्हें अपने निजी कार्यों के लिए प्रयोग करते हैं। हर बार पंचायती राज किसी एक जाति या जमींदार के हाथ में चला जाता है।

ग्राम पंचायत का संगठन ग्रामीण कल्याण के लिए किया गया है। इसलिए हमें इसके सदस्यों का चयन सुझ बुझ के साथ करना चाहिए। हमें इसके लिए कर्मठ और ईमानदार व्यक्तियों का चयन करना चाहिए। कुछ साल बाद चुनाव होने चाहिए जिससे कि दोबारा से इसके सदस्यों का चयन किया जा सके। कभी कभी आमधनी के अभाव में भी पंचायते अपना काम अच्छे से नहीं कर पाते हैं। ग्राम पंचायत को सहकारी खेती और सहकारी बैंक आदि खोलने चाहिए। लोगों को भी चाहिए कि वो सोच समझकर ही गाँव के कल्याण के लिए अच्छे सदस्यों का चयन करे।

Essay on Indian Rural Life in Hindi- भारतीय ग्रामीण जीवन पर निबंध

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Gram Panchayat in Hindi Language आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.