बादशाह की अंगूठी- Badshah Ki Anguthi Story Akbar Birbal

बादशाह की अंगूठी- Badshah Ki Anguthi Story Akbar Birbal

ध्यान दें- Best Akbar Birbal Stories In Hindi

एक दिन बादशाह अकबर बीरबल के साथ टहल रहे थे। बीरबल के साथ रोज घूमने जाना उनकी आदत थी। एक खेत से होकर गुजरते समय उन्होंने वहाँ एक पुराना कुआँ देखा।

‘चलो, देखते हैं उस कुएँ में क्या है?’ बादशाह बीरबल से बोले। फिर दोनों ही उस कुएँ के पास जा पहुँचे और उसमें झाँकने लगे। वह बहुत ही गहरा कुआँ था, लेकिन उस समय वह सूखा हुआ था।

‘यह गहरा कुआँ कई सालों से बिना उपयोग के पड़ा हुआ है। मुझे नहीं लगता कि अगर इसमें कोई चीज डाल दी जाए, तो कभी । उसे निकाला भी जा सकता है। खास तौर पर कुएँ के अंदर घुसे बिना उस वस्तु को निकाला जाना बिल्कुल सम्भव नहीं है।’ बादशाह ने कहा।

‘नहीं, ऐसी बात नहीं, ऐसा हो तो सकता है, लेकिन इसमें कुछ समय जरूर लगेगा।” बीरबल बोले।

बीरबल की बात सुनकर बादशाह ने अपनी अंगूठी उतारी और उसे कुएँ में फेंकते हुए बोले, ‘देखते हैं तुम इसे निकाल पाते हो या नहीं। तुम जितना समय चाहो, लगा सकते हो। तुम्हें इस काम के लिए जितने पैसे की आवश्यकता हो, वह तुम सरकारी खजाने से ले सकते हो।’ यह कहकर वे वापिस मुड़ गए। उधर बीरबल ने वापिस मुड़ते समय बादशाह की नजर बचाकर गाय का कुछ गोबर कुएँ में डाल दिया। इसके बाद वे नगर में वापिस आ गए। कुछ दिनों बाद, बादशाह और बीरबल टहलते हुए फिर वहीं पहुँच गए। बादशाह को यह देखकर बड़ा आश्चर्य हुआ कि उस समय वह कुआँ पानी से लबालब भरा हुआ था। गाय के गोबर का एक टुकड़ा पानी पर तैर रहा था।

‘अरे!” बादशाह आश्चर्य से बोले, ‘यह कुआँ पानी से कैसे भर गया? बरसात तो अभी हुई नहीं है।’

‘इसमें पानी मैंने भरवाया था, हुजूर।” बीरबल ने जवाब दिया।

‘क्यों?’ ‘बादशाह ने सवाल किया। इसके जवाब में बीरबल ने वह गोबर का टुकडा उठाकर उसे पलटा। उसकी पिछली तरफ अंगूठी थी। वह अंगूठी निकालकर बीरबल ने उसे साफ पानी से धोया और फिर बादशाह को पेश कर दिया। वे बादशाह से बोले, ‘जिस दिन आपने मुझसे कुएँ में घुसे बिना अंगूठी निकलवाने को कहा था, उसी दिन, मैंने यह गोबर ठीक अंगूठी के ऊपर फेंक दिया था। बाद में, मैंने इसमें पानी भरवा दिया, जिससे यह गोबर का सूखा हुआ टुकड़ा ऊपर आकर तैरने लगा।” बीरबल के इस कारनामे से बादशाह इतने खुश हुए कि उन्होंने वह अंगूठी बीरबल को ही पुरस्कारस्वरूप दे दी।

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Badshah Ki Anguthi Story Akbar Birbal आपको अच्छी लगा तो जरूर शेयर करे

Leave a Comment

Your email address will not be published.


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/hindikiguide/public_html/wp-includes/functions.php on line 5219