Essay on Subhash Chandra Bose in Hindi- सुभाष चन्द्र बोस पर निबंध

In this article, we are providing Essay on Subhash Chandra Bose in Hindi. सुभाष चन्द्र बोस पर निबंध

Essay on Subhash Chandra Bose in Hindi- सुभाष चन्द्र बोस पर निबंध

 

भूमिका-

मुझे तोड़ लेना वनमाली, उस पथ पर तुम देना फेंक।

मातृभूमि पर शीश चढ़ाने, जिस पथ जावें वीर अनेक॥

‘पुष्प की अभिलाषा’ कविता में कवि की भावना इन शब्दों में प्रकट होती है और मातृभूमि के सपूतों की अभिलाषा को प्रकट करती है। देश की स्वतंत्रता के लिए भारतीयों ने जिस महायज्ञ को आरम्भ किया था उसमें अपने जीवन की आहुति देने वाले, माँ भारती के सपूतों में सुभाष चन्द्र बोस का नाम भारतवासी श्रद्धा से याद करते हैं। वीर पुरुष एक ही बार मृत्यु का वरण करते हैं लेकिन वे अमर हो जाते हैं उनके यश और नाम को मृत्यु मिटा नहीं सकती है। सुभाष चन्द्र बोस ने भारत की परतंत्रता की बेड़ियों को काटने के लिए जो मार्ग अपनाया वह सर्वथा अलग था।

जीवन परिचय- उड़ीसा राज्य के कटक ज़िले के कोड़ोलिया ग्राम में मां प्रभावती की कोख से 20 जनवरी सन् 1897 में रायबहादुर जानकी नाथ के पुत्र बालक सुभाष का जन्म हुआ। गौर वर्ण, सुन्दर शिशु को अत्यंत लाड़-प्यार से पाला गया। लेकिन शैशव से ही बालक अत्यंत गंभीर था। साधारण बच्चों की भान्ति खेलना उसे पसंद नहीं था। उसका मन अत्यंत ही कोमल था और दूसरों के दु:खों से पीड़ित हो जाता था। अपने हिस्से की रोटियों में से भिखारियों को, भूखों को रोटी खिला देना, जाजपुर गांव में हैजा फैलने पर रोगियों की सेवा में जुट जाना इस बच्चे के भविष्य को बताते थे। बचपन से ही उन्हें अंग्रेज़ों की प्रति घृणा थी। सुभाष की प्राथमिक शिक्षा यूरोपियन स्कूल में ही आरम्भ हुई। कलकता विश्व विश्वविद्यालय की मैट्रिक की परीक्षा उतीर्ण करने के बाद वे प्रेसीडेंसी कालेज में गए। इसी कॉलेज में अंग्रेज़ औफेसर ओटेन ने जब भारतीयों का अपमान किया तो सुभाष ने कक्षा में ही उसे थप्पड़ मार दिया। परिणास्वरूप सुभाष को कॉलेज से निकाल दिया। उनके इस व्यवहार से उनके पिता दु:खी हुए पर सुभाष ने अपने इस कार्य को सदैव उचित माना।

सुभाष स्वामी विवेकानन्द के भाषण को सुनकर एक बार इतना प्रभावित हुए थे कि वे घर छोड़कर सत्य की खोज में भ्रमण करते रहे। अनेक स्थानों पर भटकते हुए उन्होंने जब साधु -संन्यासियों के व्यवहार देखे तो निराश होकर वे घर लौट आए। खोए हुए पुत्र को पाकर माता-पिता हर्ष से झूम उठे।

प्रैसीडेसी कॉलेज से निकाले जाने के बाद सुभाष ने स्कॉटिश चर्च कॉलेज में प्रवेश लिया और कलकत्ता विश्व विद्यालय से बी. ए. आनर्स की उपाधि प्राप्त की। पिता ने इसके पश्चात् सुभाष को आई. सी. एस. की प्रतियोगिता में बैठने के लिए लन्दन के कैम्ब्रिज कॉलेज में भेज दिया। यद्यपि सुभाष इसके लिए सहमत नहीं थे लेकिन पिता की आज्ञा के सम्मुख उन्हें झुकना ही पड़ा। आठ महीने की अवधि में ही सुभाष ने यह परीक्षा पास कर ली। लेकिन विदेशी सत्ता के अधीन कार्य करने से उन्होंने स्पष्ट इन्कार कर दिया। इस प्रकार अब पिता की इच्छा की परवाह न करते हुए सुभाष ने विद्रोह का बिगुल बजा दिया।

राजनीतिक जीवन- लंदन में रहते हुए भी सुभाष निरंतर देश की गुलामी के कारण संतप्त रहते थे और छटपटाते रहते। स्वदेश लौटने पर उन्होंने राजनीतिक स्थिति का अध्ययन किया। जलियांवाला बाग का हत्याकाण्ड, मांटेगू, लार्ड चेम्सफोर्ड और डायर के राक्षसी जुल्मों से भारतीय झुलस रहे थे। रौलट एक्ट ने देशवासियों पर वज्राघात किया। महात्मा गांधी की असहयोग आन्दोलन की अपील ने देश भर में तूफान मचा दिया। इस अपील से बंगाल के देशबन्धु चितरंजनदास ने अपना सर्वस्व देश को न्योछावार कर दिया। देशबन्धु से मिलने पर सुभाष की जीवन-दिशा ही बदल गई। सन् 1921 में सुभाष ने स्वयं-सेवकों के संगठन का कार्य आरम्भ किया तथा ‘अग्रगामी’ पत्र का सम्पादन भी किया। बंगाल सरकार ने राष्ट्रीय स्वयं सैनिक संगठनों को गैर कानूनी करार दे दिया और आज्ञा को भंग करने वालों को जेल भेज दिया। सुभाष को भी छ: महीने की कारावास की सजा मिली। जेल से रिहा होने के पश्चात् वे घर गए लेकिन उत्तरी बंगाल की भीषण बाढ़ ने उन्हें चैन से न बैठने दिया और वे तुरन्त ही बाढ़-पीड़ितों की सहायता एवं सेवा के लिए चल पड़े। इसी प्रकार स्वराज्य दल ने जब कलकत्ता के चुनाव में भारी विजय प्राप्त की तो सुभाष ने एक्जीक्यूटिव ऑफीसर के रूप में कलकत्ता को सुन्दर बनाने के लिए अभूतपूर्व कार्य कर अपनी योग्यता का परिचय दिया। लार्ड लिंटन के दमन चक्र का विरोध करने के अरोप में सुभाष को गिरफ्तार कर दिया गया बर्मा की मांडले जेल में भेज दिया गया। लेकिन स्वास्थ्य खराब होने के कारण इन्हें जेल से छोड़ दिया गया।

देशबन्धु की मृत्यु ने उन्हें अत्यंत पीड़ित किया। लेकिन उनके आदर्श और त्याग उनके जीवन के लिए मार्ग-दर्शक थे। स्वास्थ्य खराब होने पर भी वे चैन से नही बैठे रहे। मद्रास के कांग्रेस अधिवेशन में सुभाष को राष्ट्रीय क्रांग्रेस का प्रधानमन्त्री नियुक्त किया गया। कलकत्ता कांग्रेस के अधिवेशन में महात्मा गांधी ने औपनिवेशिक स्वराज्य का प्रस्ताव पेश किया। सुभाष और गरमदल के अन्य लोग इससे सहमत नहीं थे लेकिन देश की आज़ादी को लक्ष्य मानते हुए नरम दल के साथ समझौते भी करना पड़ा। सुभाष की गतिविधियों से बिट्रिश सरकार बहुत आतंकित थी। अत: सुभाष को पुन: नौ महीने के कठोर कारावास की सजा दी गई। अलीपुर जेल में कैदियों पर किए जाने वाली अमानुषिक अत्याचार का उन्होंने घोर विरोध किया था और इसके परिणाम में उन्हें बेरहमी से पीटा गया। 1930 से उन्हें पुन: कानून भंग करने के आरोप से जेल भेज दिया गया। लेकिन जेल में सुभाष का स्वास्थ्य दिन प्रतिदिन बिगड़ता चला गया। स्वास्थ्य लाभ के लिए सुभाष को यूरोप जाने की अनुमति मिली लेकिन विदेश जाने से पूर्व क्रूर अंग्रेजी सरकार ने बीमार माता-पिता को भी उनसे मिलने की अनुमति नहीं दी। लाखों लोगों ने गगन भेदी नारों के साथ अपने प्रिय नेता को भावभीनी विदाई दी थी।

विदेश में- वेनिस और विएना में कुछ दिन रहने के पश्चात् वे स्विट्जरलैण्ड की ओर बढ़े। इस अवस्था में भी वे शान्त बैठे नहीं रहे। रोम में उन्होंने विद्यार्थी सभा में भाषण दिए। पौलैण्ड में भी उन्होंने भारत की आज़ादी के लक्ष्य को लोगों के सामने रखा और लोगों की सहानुभूति प्राप्त की। जेनेवा, दक्षिणी, फ्रांस, मिलन और रोम, चेकोस्लेवाकिया, आस्ट्रिया में रहकर भी सुभाष अपने तूफानी क्रार्यक्रम चलाते रहे और स्वतंत्रता की मशाल जलाते रहे। इस दौर में उन्होंने ‘इण्डियन स्ट्रगल’ पुस्तक भी लिखी। विदेश से जब वे वापस आए तो पिता को देहावसान हो गया। बीमारी के कारण उन्हें पुन: विदेश जाना पड़ा। इस दौर में भी उन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक असाधारण कार्य किए। बर्लिन में उन्होंने हिटलर से भेंट की। वे मुसोलिनी से भी मिले। फ्रांस और लंदन भी गए। देश प्यार का दीवाना पुन: देश के लिए चल पड़ा परन्तु देश की धरती पर पैर रखते ही गिरफ्तार कर लिया गया। लेकिन जब सारे देश में आक्रोश और अशान्ति की लहरें उठने लगी तो पुन: सुभाष को बिना शर्त रिहा कर दिया गया। इस समय कांग्रेस में तीव्र मतभेद उत्पन्न हो गए थे। सुभाष ने गांधी जी की इच्छा की भी अवहेलना की और कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए गांधी के उम्मीदवार के विरोध में स्वयं खड़े हो गए जिस में गांधी के उम्मीदवार सीतारमैया की करारी हार हुई और यह हार गांधी की हार बन गई। कुछ समय पश्चात् गांधी और सुभाष बाबू में मतभेद गहरे होते गए अत: सुभाष ने त्यागपत्र दे दिया और अग्रागामी दल का गठन कर लिया।

फारवर्ड ब्लाक की गतिविधियों, सत्याग्रह प्रदर्शनों से भयभीत होकर सुभाष को गिरफ्तार कर लिया गया। सुभाष ने जेल में आमरण अनशन की घोषणा कर दी। अत: सरकार ने जेल से इन्हें रिहाकर दिया और घर पर ही नजरबन्द कर दिया। नजरबन्दी के दौर में सुभाष ने घोषणा कर दी कि वे समाधिस्थ रहेंगे। लेकिन सुभाष योजना बनाते रहे कि किस प्रकार वे घर से बाहर भागे।

अन्त में अंग्रेजी सरकार की ऑखों में धूल झोंकते हुए भेस बदल कर सुभाष घर से नजरबन्दी से भाग खड़े हुए। अब वे पेशावार से होते हुए काबुल पहुंचे। काबुल में भगतराम और उत्तमचन्द व्यापारी ने उनकी हर प्रकार से सहायता की और इटैलियन मन्त्री से उनकी मुलाकात करवाई। इसके बाद वे जर्मनी पहुंचे और तुब बर्लिन रेडियो से उन्होंने घोषणा की और अपना संदेश प्रसारित किया। हिटलर से भेंटकर उन्होंने सहायता माँगी। इसके बाद उन्होंने तूफानी दौरा किया और भारतीय स्वतंत्रता के प्रति सहानुभूति रखने वाले लोगों से, नेताओं से मुलाकात करते रहे। जर्मनी में आकर उन्होंने ब्रिट्रिश सेना में भारतीय सैनिक जो जर्मनी के खिलाफ लड़ रहे थे से युद्ध बन्द करने की अपील की और उनकी अपील पर 4-5 हज़ार भारतीय सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था। यही अवसर था जब सुभाष ने आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया और नारा दिया-तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा। इसके साथ उन्होंने रेडियो से प्रसारण किया जिससे सिंगापुर, जापान, मलाया, बर्मा और भारत में लोगों के मन में क्रान्ति की चिन्गारियाँ सुलगा दीं। विश्व के 19 राष्ट्रों ने आज़ाद हिन्द फौज को स्वीकार कर लिया था। इम्फाल और अराकान की पहाड़ियों में ‘दिल्ली चलो” के नारे गूंज उठते थे। लेकिन जब युद्ध में जर्मनी की हार हो गई तो इसके साथ ही आज़ाद हिन्द फ़ौज के भाग्य के आकाश पर सदैव के लिए बादल छा गए। कहा जाता है कि जब वायुयान द्वारा 19 अगस्त 1945 को सुभाष बाबू जापान जा रहे थे तो उनका जहाज दुर्घटनाग्रस्त हो गया और सुभाष बाबू कहीं सदैव के लिए अदृश्य हो गए। उनकी मृत्यु की इस घटना पर आज भी अधिकांश लोग विश्वास नहीं करते हैं।

उपसंहार- यद्यपि सुभाष बाबू स्वतंत्रता का सूर्य देखने से पहले ही चल बसे लेकिन गुलामी की अंधेरी रात को उन्होंने ही चीरा था। क्रान्ति दूत सुभाष भारतीय लोगों के लिए सदैव वन्दनीय रहेंगे। उनका यशोगान इतिहास करता रहेगा। देश की आज़ादी के लिए किया गया उनका संघर्ष, त्याग और बलिदान इतिहास को प्रकाशमान करता रहेगा।

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Subhash Chandra Bose in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *