जल प्रदूषण पर निबंध- Water Pollution Essay in Hindi

Here we are providing a Water Pollution Essay in Hindi- ( Jal Pradushan ) जल प्रदूषण पर निबंध. What is Water Pollution in Hindi. जल प्रदूषण की समस्या और उसको को रोकने के उपाय की पूरी जानकारी है।

जल प्रदूषण पर निबंध- Water Pollution Essay in Hindi

भूमिका– जल ही जीवन है क्योंकि इसके बिना मनुष्य जीवित नहीं रह सकता। जल मनुष्य की मूल आवश्यकताओं में से एक है। हम हर रोज बहुत से कामों में पानी का इस्तमाल करते है। लेकिन धीरे धीरे मनुष्य की गतिविधियों से जल दुषित होता जा रहा है वैसे भी पृथ्वी पर पीने योग्य जल केवल एक प्रतिशत है और मनुष्य अपने कार्यों से उसे भी दुषित करता जा रहा है। दुषित जल सेहत के लिए भी बहुत ही हानिकारक है। अगर हम इसी तरह पानी को दुषित करते रहेंगे तो एक दिन पीने के लिए भी पानी नही होगा और तीसरा विश्व युद्ध भी पानी को लेकर ही होगा।

जल प्रदुषण के कारण – जल के दुषित होने का कारण पशु,मनुष्य और उनकी गतिविधियां हैं। दुषित जल के निम्नलिखित कारण है-

1. पशुओं के तालाब और नदियों में नहाने से भी जल दुषित होता है।
2. नदियों में मलमूतर के कारण भी पानी दुषित हुआ है।
3. उघोगों से निकलने वाले रसायनों से भी आस पास के नदी तालाब दुषित होते है।
4. लोगों द्वारा पूजा पाठ के नाम पर नदियों में बहाए जाने वाले कुमकुम ,दिए , तेल आदि से भी पानी दुषित होता है।
5. लोगों ने गंगा में भी राख बहाकर उसके जल को दुषित कर दिया जिसकी वजह से उससे जुड़ने वाली नदियों का पानी भी दुषित हो जाता है।

जल प्रदुषण के परभाव– जल जिसे हम खाने ,पीने, नहाने, बर्तन धोने और कपड़े धोने में इस्तमाल करते है वो हमारे स्वास्थय पर बहुत असर डालता है। दुषित जल सेहत के लिए बहुत ही हानिकारक हैं। इससे होने वाली हानियाँ निम्नलिखित है-

1. दुषित जल के कारण पेट से जुड़ी बहुत सी बिमारियाँ पैदा होती है।
2. अगर हम गंदे पानी से स्नान करेंगे तो त्वचा से जुड़ी खाज खुजली जैसी समस्याएँ उत्पन्न हो जाएगी ।
3. दुषित जल पीने से पशु पक्शी भी मरते जा रहे है।
4. गंदा पानी होने की वजह से कपड़े भी सही से साफ नहीं हो रहे।
5. गंदे पानी में भोजन पकाने से खाना भी दुषित होता है।

जल प्रदुषण रोकने के उपाय– जीवित रहने के लिए जल को साफ रखना बहुत ही जरूरी है। इसके लिए निम्नलिखित उपाय हैं—–

1. उघोगों से निकलने वाले तरलीय रसायनों को नदी,तालाब आदि में बहने से रोकना होगा। इसके लिए उघोग नदियों से उचित दूरी
पर लगाए जाने चाहिए।
2. हम सबको पशुओं को नहलाने के लिए छोटे छोटे जलाशय बनाने चाहिए ताकि संपूर्ण नदी का पानी दुषित न हो।
3. हमें जगह जगह जाकर कैंप लगाने चाहिए ताकि लोगों को पानी दुषित न करने के लिए जागरूक किया जा सके।
4. तालाब में मुतर विसर्जन करने वालों को सजा दी जानी चाहिए।

निष्कर्ष– अपनी तरक्की के स्वार्थ में और ना समझी के कारण लोग जल को दुषित करते जा रहे है। जीवन चाहते हो तो जल को साफ रखना ही होगा वरना एक दिन पूरी तरह से दुषित जल इस्तमाल करने की नौभत आ जाएगी ।

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Water Pollution Essay in Hindi आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Related Articles-

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध- Noise Pollution Essay in Hindi

Essay on Pollution in Hindi- प्रदूषण पर निबंध

गंगा प्रदूषण पर निबंध

Air Pollution Essay in Hindi

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *