दहेज प्रथा पर भाषण- Speech on Dowry System in Hindi

In this article, we are providing information about Dowry System in Hindi. Speech on Dowry System in Hindi Language- दहेज प्रथा पर भाषण, स्पीच

दहेज प्रथा पर भाषण- Speech on Dowry System in Hindi

माननीय अतिथि महोदय, आदरणीय प्रधानाचार्य जी, समस्त अध्यापक गण एवं मेरे प्यारे सहपाठियों को नमस्कार। मेरा नाम कुनाल है और मैं दँसवी कक्षा का छात्र हूँ। अज हम सब यहाँ भाषण सम्मेलन में एकत्रित हुए है और मैं इस अवसर पर आपके सामने दहेज प्रथा जो कि समाज के लिए एक कुप्रथा है उस पर भाषण देना चाहता हूँ।

प्राचीन काल से ही लड़कियों की शादी में उन्हें उनके परिवार वालों और परिजनों के द्वारा खुशी से उपहार आदि दिए जाते थे जिन्हें दहेज कहा जाता था। लेकिन आज के समय में लड़की की शादी में लड़कै वालों द्वारा विभिन्न उपहारों की माँग रखी जाती है जिन्हें देने में लड़की के घर वाले कई बार असक्षम भी रहते है और इससे दहेज की यह प्रथा कुप्रथा बन गई है। दहेज की वजह से बहुत से रिश्ते भी टूट जाते है और यदि शादी हो भी जाए तो महिलाओं को बहुत सी शारीरिक और मानसिक यातनाओं का सामना करना पड़ता है।

दहेज की इस प्रथा ने महिलाओं के जीवन को कष्टदायक बना दिया है। उनकी ससुराल वाले उन पर अपने घर से दहेज लाने के लिए दबाव डालते हैं और उन पर बहुत से अत्याचार करते हैं जिसको चलते बहुत सी महिलाओं को मार दिया जाता है या फिर वह खुद ही तंग होकर आत्महत्या कर लेती है। हमें रोज अखबारों में महिलाओं की हत्याओं की खबरे पढ़ने को मिलती है। दहेज के दानव ने सभी के अंदर बेटी की शादी में होने वाले खर्च और उसे दिए जाने वाले उपहारों का डर पैदा कर दिया है। बहुत से लोग दहेज देने से बचने के लिए बेटियों की भ्रूण में ही हत्या करवा देते है क्योंकि जब बेटी ही नहीं होगी तो न शादी होगी न दहेज देना पड़ेगा।

दहेज प्रथा ने आज के समय में बहुत ही खतरनाक रूप धारण कर लिया है और हमारो समाज को खोखला किया है। कुछ लोग खुद को वैसे तो बड़े आदर्शवादी बताते है पर दहेज माँगने में उन्हें बिल्कुल भी शर्म नहीं आती है। वह भूल जाते हैं कि यदि कोई उन्हें अपनी बेटी दे रहा है तो वह उन्हें अपने जिगर का टुकड़ा दे रहा है और इससै अत्यधिक वह कुछ नहीं दे सकता है। दहेज की कुप्रथा बहुत ही तीव्र गति से बढ़ रही है जिसे रोकने की आवश्यकता है।

दहेज प्रथा को रोकने के लिए सरकार के द्वारा सख्त से सख्त कानुन बनानो चाहिए और यदि हमें दहेज लेने या देने के विषय में पता लगता है तो हमें पुलिस को सुचित करना चाहिए क्योंकि ऐसी कुप्रथा को देखकर यदि हम शांत रहते है तो हम भी उतने ही दोषी है जितने की दहेज लेने या देने वाले। लड़कियों को भी आत्मनिर्भर बनना चाहिए और उस घर में शादी नहीं करनी चाहिए जो दहेज की माँग रखता हो। लड़को को भी दहेज न लेने का फैसला लेना चाहिए और हमें लोगों को जागरूक करना चाहिए कि लड़का लड़की एक समान है।

जिस दिन यह दहेज प्रथा समाज से खत्म होगी, उस दिन कोई भी लड़की भ्रूण में नहीं मरेगी और न ही किसी भी महिला पर अत्याचार होगा। इसलिए जागरूक बनो और दहेज को ना कहो।

धन्यवाद।

# Dowry System speech in India in hindi

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण- Speech on Beti Bachao Beti Padhao in Hindi

महिला सशक्तिकरण पर भाषण- Speech on Women Empowerment in Hindi

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Speech on Dowry System in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *